याद मुझे's image
1 min read

याद मुझे

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 33 Reads0 Likes

है याद मुझे नुक्ता-ए-सलमान-ए-ख़ुश-आहंग

दुनिया नहीं मर्दान-ए-जफ़ा-कश के लिए तंग

चीते का जिगर चाहिए शाहीं का तजस्सुस

जी सकते हैं बे-रौशनी-ए-दानिश-ओ-फ़रहंग

कर बुलबुल ओ ताऊस की तक़लीद से तौबा

बुलबुल फ़क़त आवाज़ है ताऊस फ़क़त रंग

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts