तू अभी रहगुज़र's image
1 min read

तू अभी रहगुज़र

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

तू अभी रहगुज़र में है क़ैद-ए-मक़ाम से गुज़र

मिस्र ओ हिजाज़ से गुज़र पारस ओ शाम से गुज़र

जिस का अमल है बे-ग़रज़ उस की जज़ा कुछ और है

हूर ओ ख़ियाम से गुज़र बादा-ओ-जाम से गुज़र

गरचे है दिल-कुशा बहुत हुस्न-ए-फ़रंग की बहार

ताएरक-ए-बुलंद-बाम दाना-ओ-दाम से गुज़र

कोह-शिगाफ़ तेरी ज़र्ब तुझ से कुशाद-ए-शर्क़-ओ-ग़र्ब

तेग़-ए-हिलाल की तरह ऐश-ए-नियाम से गुज़र

तेरा इमाम बे-हुज़ूर तेरी नमाज़ बे-सुरूर

ऐसी नमाज़ से गुज़र ऐसे इमाम से गुज़र

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts