मता-ए-बे-बहा है's image
1 min read

मता-ए-बे-बहा है

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

मता-ए-बे-बहा है दर्द-ओ-सोज़-ए-आरज़ूमंदी

मक़ाम-ए-बंदगी दे कर न लूँ शान-ए-ख़ुदावंदी

तिरे आज़ाद बंदों की न ये दुनिया न वो दुनिया

यहाँ मरने की पाबंदी वहाँ जीने की पाबंदी

हिजाब इक्सीर है आवारा-ए-कू-ए-मोहब्बत को

मिरी आतिश को भड़काती है तेरी देर-पैवंदी

गुज़र-औक़ात कर लेता है ये कोह ओ बयाबाँ में

कि शाहीं के लिए ज़िल्लत है कार-ए-आशियाँ-बंदी

ये फ़ैज़ान-ए-नज़र था या कि मकतब की करामत थी

सिखाए किस ने इस्माईल को आदाब-ए-फ़रज़ंदी

ज़ियारत-गाह-ए-अहल-ए-अज़्म-ओ-हिम्मत है लहद मेरी

कि ख़ाक-ए-राह को मैं ने बताया राज़-ए-अलवंदी

मिरी मश्शातगी की क्या ज़रूरत हुस्न-ए-मअ'नी को

कि फ़ितरत ख़ुद-ब-ख़ुद करती है लाले की हिना-बंदी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts