क्या इश्क़ एक ज़िंदगी's image
1 min read

क्या इश्क़ एक ज़िंदगी

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 43 Reads0 Likes

क्या इश्क़ एक ज़िंदगी-ए-मुस्तआ'र का

क्या इश्क़ पाएदार से ना-पाएदार का

वो इश्क़ जिस की शम्अ' बुझा दे अजल की फूँक

उस में मज़ा नहीं तपिश ओ इंतिज़ार का

मेरी बिसात क्या है तब-ओ-ताब-ए-यक-नफ़्स

शो'ला से बे-महल है उलझना शरार का

कर पहले मुझ को ज़िंदगी-ए-जावेदाँ अता

फिर ज़ौक़ ओ शौक़ देख दिल-ए-बे-क़रार का

काँटा वो दे कि जिस की खटक ला-ज़वाल हो

या-रब वो दर्द जिस की कसक ला-ज़वाल हो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts