खो न जा इस सहर ओ शाम's image
1 min read

खो न जा इस सहर ओ शाम

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

खो न जा इस सहर ओ शाम में ऐ साहिब-ए-होश

इक जहाँ और भी है जिस में न फ़र्दा है न दोश

किस को मालूम है हंगामा-ए-फ़र्दा का मक़ाम

मस्जिद ओ मकतब ओ मय-ख़ाना हैं मुद्दत से ख़मोश

मैं ने पाया है इसे अश्क-ए-सहर-गाही में

जिस दुर-ए-नाब से ख़ाली है सदफ़ की आग़ोश

नई तहज़ीब तकल्लुफ़ के सिवा कुछ भी नहीं

चेहरा रौशन हो तो क्या हाजत-ए-गुलगूना फ़रोश

साहिब-ए-साज़ को लाज़िम है कि ग़ाफ़िल न रहे

गाहे गाहे ग़लत-आहंग भी होता है सरोश

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts