कहते हैं कभी गोश्त न खाता's image
1 min read

कहते हैं कभी गोश्त न खाता

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 49 Reads0 Likes

कहते हैं कभी गोश्त न खाता था म'अर्री

फल-फूल पे करता था हमेशा गुज़र-औक़ात

इक दोस्त ने भूना हुआ तीतर उसे भेजा

शायद कि वो शातिर इसी तरकीब से हो मात

ये ख़्वान-ए-तर-ओ-ताज़ा म'अर्री ने जो देखा

कहने लगा वो साहिब-ए-गुफ़रान-ओ-लुज़ूमात

ऐ मुर्ग़क-ए-बेचारा ज़रा ये तो बता तू

तेरा वो गुनह क्या था ये है जिस की मुकाफ़ात?

अफ़्सोस-सद-अफ़्सोस कि शाहीं न बना तू

देखे न तिरी आँख ने फ़ितरत के इशारात!

तक़दीर के क़ाज़ी का ये फ़तवा है अज़ल से

है जुर्म-ए-ज़ईफ़ी की सज़ा मर्ग-ए-मुफ़ाजात!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts