हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन's image
1 min read

हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन

Muhammad IqbalMuhammad Iqbal
0 Bookmarks 47 Reads0 Likes

हज़ार ख़ौफ़ हो लेकिन ज़बाँ हो दिल की रफ़ीक़

यही रहा है अज़ल से क़लंदरों का तरीक़

हुजूम क्यूँ है ज़ियादा शराब-ख़ाने में

फ़क़त ये बात कि पीर-ए-मुग़ाँ है मर्द-ए-ख़लीक़

इलाज-ए-ज़ोफ़-ए-यक़ीं इन से हो नहीं सकता

ग़रीब अगरचे हैं 'राज़ी' के नुक्ता-हाए-दक़ीक़

मुरीद-ए-सादा तो रो रो के हो गया ताइब

ख़ुदा करे कि मिले शैख़ को भी ये तौफ़ीक़

उसी तिलिस्म-ए-कुहन में असीर है आदम

बग़ल में उस की हैं अब तक बुतान-ए-अहद-ए-अतीक़

मिरे लिए तो है इक़रार-ए-बिल-लिसाँ भी बहुत

हज़ार शुक्र कि मुल्ला हैं साहिब-ए-तसदीक़

अगर हो इश्क़ तो है कुफ़्र भी मुसलमानी

न हो तो मर्द-ए-मुसलमाँ भी काफ़िर ओ ज़िंदीक़

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts