मरज़-ए-इश्क़ जिसे हो उसे क्या याद रहे's image
2 min read

मरज़-ए-इश्क़ जिसे हो उसे क्या याद रहे

Muhammad Ibrahim ZauqMuhammad Ibrahim Zauq
0 Bookmarks 441 Reads0 Likes

मरज़-ए-इश्क़ जिसे हो उसे क्या याद रहे

न दवा याद रहे और न दुआ याद रहे

तुम जिसे याद करो फिर उसे क्या याद रहे

न ख़ुदाई की हो परवा न ख़ुदा याद रहे

लोटते सैकड़ों नख़चीर हैं क्या याद रहे

चीर दो सीने में दिल को कि पता याद रहे

रात का वादा है बंदे से अगर बंदा-नवाज़

बंद में दे लो गिरह ता कि ज़रा याद रहे

क़ासिद-ए-आशिक़-ए-सौदा-ज़दा क्या लाए जवाब

जब न मालूम हो घर और न पता याद रहे

देख भी लेना हमें राह में और क्यूँ साहब

हम से मुँह फेर के जाना ये भला याद रहे

तेरे मदहोश से क्या होश ओ ख़िरद की हो उम्मीद

रात का भी न जिसे खाया हुआ याद रहे

कुश्ता-ए-नाज़ की गर्दन पे छुरी फेरो जब

काश उस वक़्त तुम्हें नाम-ए-ख़ुदा याद रहे

ख़ाक बर्बाद न करना मिरी उस कूचे में

तुझ से कह देता हूँ मैं बाद-ए-सबा याद रहे

गोर तक आए तो छाती पे क़दम भी रख दो

कोई बे-दिल इधर आए तो पता याद रहे

तेरा आशिक़ न हो आसूदा ब-ज़ेर-ए-तूबा

ख़ुल्द में भी तिरे कूचे की हवा याद रहे

बाज़ आ जाएँ जफ़ा से जो कभी आप तो फिर

याद आशिक़ को न कीजेगा भला याद रहे

दाग़-ए-दिल पर मिरे फाहा नहीं है अँगारा

चारागर लीजो न चुटकी से उठा याद रहे

ज़ख़्म-ए-दिल बोले मिरे दिल के नमक-ख़्वारों से

लो भला कुछ तो मोहब्बत का मज़ा याद रहे

हज़रत-ए-इश्क़ के मकतब में है तालीम कुछ और

याँ लिक्खा याद रहे और न पढ़ा याद रहे

गर हक़ीक़त में है रहना तो न रख ख़ुद-बीनी

भूले बंदा जो ख़ुदी को तो ख़ुदा याद रहे

आलम-ए-हुस्न ख़ुदाई है बुतों की ऐ 'ज़ौक़'

चल के बुत-ख़ाने में बैठो कि ख़ुदा याद रहे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts