ग़ैरों पे खुल न जाए कहीं राज़ देखना's image
1 min read

ग़ैरों पे खुल न जाए कहीं राज़ देखना

Momin Khan MominMomin Khan Momin
0 Bookmarks 140 Reads0 Likes

ग़ैरों पे खुल न जाए कहीं राज़ देखना

मेरी तरफ़ भी ग़म्ज़ा-ए-ग़म्माज़ देखना

उड़ते ही रंग-ए-रुख़ मिरा नज़रों से था निहाँ

इस मुर्ग़-ए-पर-शिकस्ता की परवाज़ देखना

दुश्नाम-ए-यार तब-ए-हज़ीं पर गिराँ नहीं

ऐ हम-नफ़स नज़ाकत-ए-आवाज़ देखना

देख अपना हाल-ए-ज़ार मुनज्जिम हुआ रक़ीब

था साज़गार ताला-ए-ना-साज़ देखना

बद-काम का मआल बुरा है जज़ा के दिन

हाल-ए-सिपहर-ए-तफ़रक़ा-अंदाज़ देखना

मत रखियो गर्द-ए-तारिक-ए-उश्शाक़ पर क़दम

पामाल हो न जाए सर-अफ़राज़ देखना

मेरी निगाह-ए-ख़ीरा दिखाते हैं ग़ैर को

बे-ताक़ती पे सरज़निश-ए-नाज़ देखना

तर्क-ए-सनम भी कम नहीं सोज़-ए-जहीम से

'मोमिन' ग़म-ए-मआल का आग़ाज़ देखना

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts