दिल-बस्तगी सी है किसी ज़ुल्फ़-ए-दोता के साथ's image
2 min read

दिल-बस्तगी सी है किसी ज़ुल्फ़-ए-दोता के साथ

Momin Khan MominMomin Khan Momin
0 Bookmarks 221 Reads0 Likes

दिल-बस्तगी सी है किसी ज़ुल्फ़-ए-दोता के साथ

पाला पड़ा है हम को ख़ुदा किस बला के साथ

 

कब तक निभाइए बुत-ए-ना-आश्ना के साथ

कीजे वफ़ा कहाँ तलक उस बेवफ़ा के साथ

 

याद-ए-हवा-ए-यार ने क्या क्या न गुल खिलाए

आई चमन से निकहत-ए-गुल जब सबा के साथ

 

माँगा करेंगे अब से दुआ हिज्र-ए-यार की

आख़िर तो दुश्मनी है असर को दुआ के साथ

 

है किस का इंतिज़ार कि ख़्वाब-ए-अदम से भी

हर बार चौंक पड़ते हैं आवाज़-ए-पा के साथ

 

या रब विसाल-ए-यार में क्यूँकर हो ज़िंदगी

निकली ही जान जाती है हर हर अदा के साथ

 

अल्लाह रे सोज़-ए-आतश-ए-ग़म बाद-ए-मर्ग भी

उठते हैं मेरी ख़ाक से शोले हवा के साथ

 

सौ ज़िंदगी निसार करूँ ऐसी मौत पर

यूँ रोए ज़ार ज़ार तू अहल-ए-अज़ा के साथ

 

हर दम अरक़ अरक़ निगह-ए-बे-हिजाब है

किस ने निगाह-ए-गर्म से देखा हया के साथ

 

मरने के बाद भी वही आवारगी रही

अफ़्सोस जाँ गई नफ़स-ए-ना-रसा के साथ

 

दस्त-ए-जुनूँ ने मेरा गरेबाँ समझ लिया

उलझा है उन से शोख़ के बंद-ए-क़बा के साथ

 

आते ही तेरे चल दिए सब वर्ना यास का

कैसा हुजूम था दिल-ए-हसरत-फ़ज़ा के साथ

 

मैं कीने से भी ख़ुश हूँ कि सब ये तो कहते हैं

उस फ़ित्नागर को लाग है इस मुब्तिला के साथ

 

अल्लाह री गुमरही बुत ओ बुत-ख़ाना छोड़ कर

'मोमिन' चला है काबे को इक पारसा के साथ

 

'मोमिन' वही ग़ज़ल पढ़ो शब जिस से बज़्म में

आती थी लब पे जान ज़ह-ओ-हब्बज़ा के साथ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts