नक़्शे में रेखा's image
1 min read

नक़्शे में रेखा

Mohan RanaMohan Rana
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes


जो छूटा वो अब दूर
जो पास आता वो भी बहुत दूर
फिलहाल अपने दिन रात को बदलना होगा
कुर्सी को झुका नींद की करवट में गर हो सके तो,
दो देशांतरों के बीच सीमा पार करते जहाज़
मीटर और फ़ुट ऊँचाई बताता
सरकता है नक़्शे में एक रेखा पर

मैंने देखा वह
जिया वह
कि कह सकूँ चुप रह

गरमियाँ आयेंगी यहाँ जो याद नहीं रह पातीं
अपने से हमेशा बहुत दूर,
मैंने छुआ है नक़्शे में किसी और रेखा में
तपती दोपहर चलती गरम हवा की भी होती है अपनी उदासी
सरसर पीपल के झोंकों में बची छाया तल बैठे,
कि कभी लगता एक चमक टूट कर गिरेगी मुझ पर आकाश से
प्रत्यक्षा के लिए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts