गली's image
0 Bookmarks 101 Reads0 Likes


हम सुनेंगे तुम्हारे स्वरों को चुपचाप

रिमझिम में भीगते

धोते अपने अंतर को उनकी धारा में,

बारिश चली जाएगी

अनजाने अंतरालों में

समेटते स्मृतियों की कतरनों में

जाने कब से दम साधे बोल पड़ती अनुगूँज दोपहर की

तुम्हें सुनते सुनते

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts