यूँ तेरी रहगुज़र से दीवानावार गुज़रे's image
1 min read

यूँ तेरी रहगुज़र से दीवानावार गुज़रे

Meena KumariMeena Kumari
0 Bookmarks 73 Reads0 Likes

यूँ तेरी रहगुज़र से दीवानावार गुज़रे
काँधे पे अपने रख के अपना मज़ार गुज़रे

बैठे हैं रास्ते में दिल का खंडहर सजा कर
शायद इसी तरफ़ से एक दिन बहार गुज़रे

बहती हुई ये नदिया घुलते हुए किनारे
कोई तो पार उतरे कोई तो पार गुज़रे

तू ने भी हम को देखा हमने भी तुझको देखा
तू दिल ही हार गुज़रा हम जान हार गुज़रे।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts