समय नहीं है's image
3 min read

समय नहीं है

Manglesh DabralManglesh Dabral
0 Bookmarks 162 Reads0 Likes


कोई है जो अपनी छायाएँ फेंकता है और अपना चेहरा छिपाता है
कोई है जो मेरे सीने पर सवार हो चुका है
एक रात है जिसने मेरे दिनों पर क़ब्ज़ा कर लिया है
रात की हवा में कोई अँधेरी कोई काली चीज़ उतरती है
और मेरी नींद का दम घोटने लगती है
एक काला बादल मण्डराता हुआ आसमान में बैठ जाता है
और सारी नमी को सोखता रहता है
कोई है जिसने मुझसे मेरा समय छीन लिया है

रोज़ सुबह दरवाज़े पर पड़ा हुआ अख़बार आवाज़ देता है
समय किसी दूसरी तरफ़ चला गया है
हत्याओं नफ़रतों अपशब्दों अश्लीलताओं क्रूर ख़ुशियों की तरफ़
मैं इस सबसे घिर गया हूँ
मेरे दिमाग में समय नहीं रह गया है

रोज़ एक झूठ सच की पोशाक पहन कर सामने लाया जाता है
उसके पीछे सच क्या है मैं इस उधेड़बुन में फँस गया हूँ
हवा में एक बकबकाता हुआ तानाशाह मुंह
मेरी बोलती बंद कर रहा है
मेरी आवाज़ में समय नहीं रह गया है

मेरी पुरानी प्रेयसी तुम जो कई वर्षों के पर्दे लाँघकर
एक महीन याद की तरह आई हो हरे पीले लाल पत्तों के परिधान में
अपनी नीली आभा प्रकट करती हुई
मुझे माफ़ करना कि मेरा दिल कुरूपता से भर दिया गया है
प्यारे दोस्तो माफ़ करना कि मेरी दिशा बदल दी गई है
तुम्हें भी कहीं और धकेल दिया गया है
मेरे जीवन में समय नहीं रह गया है

बग़ल में चलते हुए भाइयो बहनो मैं अब तुमसे दूर हूँ
मुझसे कह दिया गया है तुम कोई दूसरे हो
और मेरा अगर कोई शत्रु है तो वह तुममें ही छिपा हुआ है
माफ़ करना कि इन दिनों की कोई काट नहीं है
जीवितों के भीतर जो डगमगाती-सी रोंशनी दिखती थी
वह बुझ रही है
और मृतक बहुत चाहते हुए भी कुछ कर नहीं पाते

मेरी जन्मभूमि मेरी पृथ्वी
तुम्हारे भीतर से किसी नदी किसी चिड़िया की आवाज़ नहीं आती
तुम्हारे पेड़ हवा देना बन्द कर रहे हैं
मैं सिर्फ बाज़ार का शोर सुनता हूँ या कोई शंखनाद सिंहनाद
और जब तुम करीब से कुछ कहती हो
तो वह कहीं दूसरे छोर से आती पुकार लगती है
मैं देखता हूँ तुम्हारे भीतर पानी सूख चुका है
तुम्हारे भीतर हवा ख़त्म हो चुकी है
और तुम्हारे समय पर कोई और क़ब्ज़ा कर चुका है।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts