माँ का नमस्कार's image
1 min read

माँ का नमस्कार

Manglesh DabralManglesh Dabral
0 Bookmarks 85 Reads0 Likes


जब माँ की काफ़ी उम्र हो गई
तो वह सभी मेहमानों को नमस्कार किया करती
जैसे वह एक बच्ची हो और बाक़ी लोग उससे बड़े।

वह हरेक से कहती — बैठो कुछ खाओ।
ज़्यादातर लोग उसका दिल रखने के लिए
खाने की कोई चीज़ लेकर उसके पास कुछ देर बैठ जाते
माँ खुश होकर उनकी तरफ देखती
और जाते हुए भी उन्हें नमस्कार करती
हालाँकि वह उम्र में सभी लोगों से बड़ी थी।

वह धरती को भी नमस्कार करती कभी अकेले में भी
आख़िर में जब मृत्यु आई तो
उसने उसे भी नमस्कार किया होगा
और अपना जीवन उसे देते हुए कहा होगा —
बैठो कुछ खाओ।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts