दया धरम हिरदे बसै's image
1 min read

दया धरम हिरदे बसै

Maluk DasMaluk Das
0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

दया धरम हिरदे बसै, बोलै अमरित बैन।

तेई ऊँचे जानिये, जिनके नीचे नैन॥

आदर मान, महत्व, सत, बालापन को नेहु।

यह चारों तबहीं गए जबहिं कहा कछु देहु॥

इस जीने का गर्व क्या, कहाँ देह की प्रीत।

बात कहत ढर जात है, बालू की सी भीत॥

अजगर करै न चाकरी, पंछी करै न काम।

दास 'मलूका कह गए, सबके दाता राम॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts