क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई's image
1 min read

क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई

Lata HayaLata Haya
0 Bookmarks 215 Reads0 Likes

क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई

जो हँस रहे थे उन को रुलाती चली गई

दिल गोया हादसात-ए-मुसलसल का शहर हो

धड़कन भी चीख़ बन के डराती चली गई

काग़ज़ की तरह हो गई बोसीदा ज़िंदगी

तहरीर हसरतों की मिटाती चली गई

मैं चाहती नहीं थी मगर फिर भी जाने क्यूँ

आई जो तेरी याद तो आती चली गई

आँखों की पुतलियों से तिरा अक्स भी गया

या'नी चराग़ में थी जो बाती चली गई

ढूँडा उन्हें जो रात की तन्हाई में 'हया'

इक कहकशाँ सी ज़ेहन पे छाती चली गई

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts