यक़ीन की जल्दीबाजी's image
1 min read

यक़ीन की जल्दीबाजी

Kunwar NarayanKunwar Narayan
0 Bookmarks 88 Reads0 Likes

एक बार ख़बर उड़ी
कि कविता अब कविता नहीं रही
और यूँ फैली
कि कविता अब नहीं रही !

यक़ीन करनेवालों ने यक़ीन कर लिया
कि कविता मर गई,
लेकिन शक़ करने वालों ने शक़ किया
कि ऐसा हो ही नहीं सकता
और इस तरह बच गई कविता की जान

ऐसा पहली बार नहीं हुआ
कि यक़ीनों की जल्दबाज़ी से
महज़ एक शक़ ने बचा लिया हो
किसी बेगुनाह को ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts