अंग-अंग's image
1 min read

अंग-अंग

Kunwar NarayanKunwar Narayan
0 Bookmarks 122 Reads0 Likes

अंग-अंग
उसे लौटाया जा रहा था।

अग्नि को
जल को
पृथ्वी को
पवन को
शून्य को।

केवल एक पुस्तक बच गयी थी
उन खेलों की
जिन्हें वह बचपन से
अब तक खेलता आया था।

उस पुस्तक को रख दिया गया था
ख़ाली पदस्थल पर
उसकी जगह
दूसरों की ख़ुशी के लिए।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts