मुझे भूल जाने वाले मिरे दिल की कुछ ख़बर भी's image
1 min read

मुझे भूल जाने वाले मिरे दिल की कुछ ख़बर भी

Kunwar Mohinder Singh BediKunwar Mohinder Singh Bedi
0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

मुझे भूल जाने वाले मिरे दिल की कुछ ख़बर भी

मिरी आँख पर न जाना ये तो ख़ुश्क भी है तर भी

ये क़दम रुके रुके से ये झुका झुका सा सर भी

यहीं उन का नक़्श-ए-पा है यही उन की रहगुज़र भी

फ़लक-आश्ना सही हम मगर एहतियात लाज़िम

कि क़फ़स में ले न जाए ये मज़ाक़-ए-बाल-ओ-पर भी

बड़े शौक़ से हुए थे यूँ हरम को हम रवाना

ये ख़बर न थी कि रह में है तुम्हारा संग-ए-दर भी

हो दराज़ उम्र यारब मिरे शैख़-ओ-बरहमन की

कहीं ख़त्म हो न जाए ये जहान-ए-ख़ैर-ओ-शर भी

न बदल रही हैं घड़ियाँ न सितारे डूबते हैं

कहीं थक के सो गई है शब-ए-हिज्र की सहर भी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts