हर लहज़ा मकीं दिल में तिरी याद रहेगी's image
1 min read

हर लहज़ा मकीं दिल में तिरी याद रहेगी

Kunwar Mohinder Singh BediKunwar Mohinder Singh Bedi
0 Bookmarks 56 Reads0 Likes

हर लहज़ा मकीं दिल में तिरी याद रहेगी

बस्ती ये उजड़ने पे भी आबाद रहेगी

है हस्ती-ए-आशिक़ का बस इतना ही फ़साना

बर्बाद थी बर्बाद है बर्बाद रहेगी

है इश्क़ वो नेमत जो ख़रीदी नहीं जाती

ये शय है ख़ुदा-दाद ख़ुदा-दाद रहेगी

वो आए भी तो ज़ब्त से लब हिल न सकेंगे

फ़रियाद मिरी तिश्ना-ए-फ़रियाद रहेगी

ये हुस्न-ए-सितम-कोश सितम-कोश है कब तक

कब तक ये नज़र बानी-ए-बेदाद रहेगी

वो ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ का सँवारे न सँवरना

वो उन के बिगड़ने की अदा याद रहेगी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts