घटा है बाग़ है मय है सुबू है जाम है साक़ी's image
1 min read

घटा है बाग़ है मय है सुबू है जाम है साक़ी

Kunwar Mohinder Singh BediKunwar Mohinder Singh Bedi
0 Bookmarks 52 Reads0 Likes

घटा है बाग़ है मय है सुबू है जाम है साक़ी

अब इस के ब'अद जो कुछ है वो तेरा काम है साक़ी

उमीद-ए-वस्ल रखना इक ख़याल-ए-ख़ाम है साक़ी

बुरा तो कुछ नहीं लेकिन मज़ाक़-ए-आम है साक़ी

फ़लक दुश्मन मुख़ालिफ़ गर्दिश-ए-अय्याम है साक़ी

मगर हम हैं तिरी महफ़िल है दौर-ए-जाम है साक़ी

जो अपनी हर नज़र से इक ख़ुदा तख़्लीक़ करते हैं

उन्हें दैर ओ हरम सी चीज़ से क्या काम है साक़ी

उदासी सर्द आहें कर्ब हसरत दर्द मजबूरी

मोहब्बत तल्ख़ियों का एक शीरीं नाम है साक़ी

जिन्हें शौक़-ए-तलब है और जिन्हें ज़ौक़-ए-तजस्सुस है

उन्हें कोह-ओ-बयाबाँ मंज़िल-ए-यक-गाम है साक़ी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts