तुझी को जो याँ जल्वा-फ़रमा न देखा's image
1 min read

तुझी को जो याँ जल्वा-फ़रमा न देखा

Khwaja Mir DardKhwaja Mir Dard
0 Bookmarks 60 Reads0 Likes

तुझी को जो याँ जल्वा-फ़रमा न देखा

बराबर है दुनिया को देखा न देखा

मिरा ग़ुंचा-ए-दिल है वो दिल गिरफ़्ता

कि जिस को किसू ने कभू वा न देखा

यगाना है तू आह बेगानगी में

कोई दूसरा और ऐसा न देखा

अज़िय्यत मुसीबत मलामत बलाएँ

तिरे इश्क़ में हम ने क्या क्या न देखा

किया मुज को दाग़ों ने सर्व-ए-चराग़ाँ

कभू तू ने आ कर तमाशा न देखा

तग़ाफ़ुल ने तेरे ये कुछ दिन दिखाए

इधर तू ने लेकिन न देखा न देखा

हिजाब-ए-रुख़-ए-यार थे आप ही हम

खुली आँख जब कोई पर्दा न देखा

शब ओ रोज़ ऐ 'दर्द' दर पे हूँ उस के

किसू ने जिसे याँ न समझा न देखा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts