हम तुझ से किस हवस की फ़लक जुस्तुजू करें's image
1 min read

हम तुझ से किस हवस की फ़लक जुस्तुजू करें

Khwaja Mir DardKhwaja Mir Dard
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes

हम तुझ से किस हवस की फ़लक जुस्तुजू करें

दिल ही नहीं रहा है कि कुछ आरज़ू करें

मिट जाएँ एक आन में कसरत-नुमाइयाँ

हम आइने के सामने जब आ के हू करें

तर-दामनी पे शैख़ हमारी न जाइयो

दामन निचोड़ दें तो फ़रिश्ते वुज़ू करें

सर-ता-क़दम ज़बान हैं जूँ शम्अ गो कि हम

पर ये कहाँ मजाल जो कुछ गुफ़्तुगू करें

हर-चंद आइना हूँ पर इतना हूँ ना-क़ुबूल

मुँह फेर ले वो जिस के मुझे रू-ब-रू करें

ने गुल को है सबात न हम को है ए'तिबार

किस बात पर चमन हवस-ए-रंग-ओ-बू करें

है अपनी ये सलाह कि सब ज़ाहिदान-ए-शहर

ऐ 'दर्द' आ के बैअ'त-ए-दस्त-ए-सुबू करें

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts