तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों's image
1 min read

तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों

Khwaja Haider Ali AatishKhwaja Haider Ali Aatish
0 Bookmarks 55 Reads0 Likes

तसव्वुर से किसी के मैं ने की है गुफ़्तुगू बरसों

रही है एक तस्वीर-ए-ख़याली रू-ब-रू बरसों

हुआ मेहमान आ कर रात भर वो शम्अ'-रू बरसों

रहा रौशन मिरे घर का चराग़-ए-आरज़ू बरसों

बराबर जान के रक्खा है उस को मरते मरते तक

हमारी क़ब्र पर रोया करेगी आरज़ू बरसों

चमन में जा के भूले से मैं ख़स्ता-दिल कराहा था

किया की गुल से बुलबुल शिकवा-ए-दर्द-ए-गुलू बरसों

अगर मैं ख़ाक भी हूँगा तो 'आतिश' गर्द-बाद-आसा

रखेगी मुझ को सर-गश्ता किसी की जुस्तुजू बरसों

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts