कोई इश्क़ में मुझ से अफ़्ज़ूँ न निकला's image
1 min read

कोई इश्क़ में मुझ से अफ़्ज़ूँ न निकला

Khwaja Haider Ali AatishKhwaja Haider Ali Aatish
0 Bookmarks 76 Reads0 Likes

कोई इश्क़ में मुझ से अफ़्ज़ूँ न निकला

कभी सामने हो के मजनूँ न निकला

बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का

जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ न निकला

बजा कहते आए हैं हेच उस को शाएर

कमर का कोई हम से मज़मूँ न निकला

हुआ कौन सा रोज़-ए-रौशन न काला

कब अफ़्साना-ए-ज़ुल्फ़-ए-शबगूँ न निकला

पहुँचता उसे मिस्रा-ए-ताज़ा-ओ-तर

क़द-ए-यार सा सर्व-ए-मौज़ूँ न निकला

रहा साल-हा-साल जंगल में 'आतिश'

मिरे सामने बेद-ए-मजनूँ न निकला

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts