हवा-ए-दौर-ए-मय-ए-ख़ुश-गवार राह में है's image
1 min read

हवा-ए-दौर-ए-मय-ए-ख़ुश-गवार राह में है

Khwaja Haider Ali AatishKhwaja Haider Ali Aatish
0 Bookmarks 41 Reads0 Likes

हवा-ए-दौर-ए-मय-ए-ख़ुश-गवार राह में है

ख़िज़ाँ चमन से है जाती बहार राह में है

गदा-नवाज़ कोई शहसवार राह में है

बुलंद आज निहायत ग़ुबार राह में है

अदम के कूच की लाज़िम है फ़िक्र हस्ती में

न कोई शहर न कोई दयार राह में है

न बदरक़ा है न कोई रफ़ीक़ साथ अपने

फ़क़त इनायत-ए-परवर-दिगार राह में है

सफ़र है शर्त मुसाफ़िर-नवाज़ बहुतेरे

हज़ार-हा शजर-ए-साया-दार राह में है

मक़ाम तक भी हम अपने पहुँच ही जाएँगे

ख़ुदा तो दोस्त है दुश्मन हज़ार राह में है

थकें जो पाँव तो चल सर के बल न ठहर 'आतिश'

गुल-ए-मुराद है मंज़िल में ख़ार राह में है

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts