आज नदी बिलकुल उदास थी's image
1 min read

आज नदी बिलकुल उदास थी

Kedarnath AgarwalKedarnath Agarwal
0 Bookmarks 57 Reads0 Likes

आज नदी बिलकुल उदास थी।
सोई थी अपने पानी में,
उसके दर्पण पर-
बादल का वस्त्र पडा था।
मैंने उसको नहीं जगाया,
दबे पांव घर वापस आया।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts