करि कै जु सिंगार अटारी चढी's image
1 min read

करि कै जु सिंगार अटारी चढी

Kavi GangKavi Gang
0 Bookmarks 102 Reads0 Likes

करि कै जु सिंगार अटारी चढी, मनि लालन सों हियरा लहक्यो।
सब अंग सुबास सुगंध लगाइ कै, बास चँ दिसि को महक्यो॥
कर तें इक कंकन छूटि परयो, सिढियाँ सिढियाँ सिढियाँ बहक्यो।
कवि 'गंग भनै इक शब्द भयो, ठननं ठननं ठननं ठहक्यो॥

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts