हहर हवेली सुनि सटक समरकंदी's image
1 min read

हहर हवेली सुनि सटक समरकंदी

Kavi GangKavi Gang
0 Bookmarks 94 Reads0 Likes

हहर हवेली सुनि सटक समरकंदी,
धीर न धरत धुनि सुनत निसाना की।
मछम को ठाठ ठठ्यो प्रलय सों पटलबौ 'गंग',
खुरासान अस्पहान लगे एक आना की।
जीवन उबीठे बीठे मीठे-मीठे महबूबा,
हिए भर न हेरियत अबट बहाना की।
तोसखाने, फीलखाने, खजाने, हुरमखाने,
खाने खाने खबर नवाब ख़ानखाना की।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts