ता दिन अखिल खलभलै खल खलक में's image
1 min read

ता दिन अखिल खलभलै खल खलक में

Kavi BhushanKavi Bhushan
0 Bookmarks 102 Reads0 Likes

ता दिन अखिल खलभलै खल खलक में,
जा दिन सिवाजी गाजी नेक करखत हैं.
सुनत नगारन अगार तजि अरिन की,
दागरन भाजत न बार परखत हैं.
छूटे बार बार छूटे बारन ते लाल ,
देखि भूषण सुकवि बरनत हरखत हैं .
क्यों न उत्पात होहिं बैरिन के झुण्डन में,
करे घन उमरि अंगारे बरखत हैं .

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts