चाँद का पैवन्द's image
1 min read

चाँद का पैवन्द

Kalpna Singh-ChitnisKalpna Singh-Chitnis
0 Bookmarks 56 Reads0 Likes

आकाश कितना समृद्ध,
फिर भी उसके दामन पर
चाँद का पैवन्द।

जमीं पर उस किनारे से
चांदनी है उतर रही,
और शहर के सारे मकान,
खंडहरों सी चुप्पी समोए वीरान,

फिर भी पुरानी मस्जिद से अज़ां
अभी देखना उठेगी।
तब ये वीराने क्या चुप रहेंगे?

नहीं,
निकल पड़ेंगे खोज में
बेबस और बेचैन होकर,
अज़ां के हक़दार के।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts