हम को तो बे-सवाल मिले बे-तलब मिले's image
1 min read

हम को तो बे-सवाल मिले बे-तलब मिले

Kalim AajizKalim Aajiz
0 Bookmarks 79 Reads0 Likes

हम को तो बे-सवाल मिले बे-तलब मिले
हम वो नहीं है साकी के जब माँगे तब मिले

फरियाद ही में अहद-ए-बहाराँ गुज़र गया
ऐसे खुले के फिर न कभी लब से लब मिले

हम ये समझ रहे थे हमीं बदनसीब हैं
देखा तो मैकदै में बहुत तिश्ना-लब मिले

किस ने वफा का हम को वफा से दिया जवाब
इस रास्ते में लूटने वाले ही सब मिले

मिलते हैं सब किसी न किसी मुद्दआ के साथ
अरमान ही रहा के कोई बे-सबब मिले

रक्खा कहाँ है इश्क ने ‘आजिज़’ को होश में
मत छेड़ियो अगर कहीं वो बे-अदब मिले

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts