जहाँ कुछ दर्द का मज़कूर होगा's image
1 min read

जहाँ कुछ दर्द का मज़कूर होगा

JURAT QALANDAR BAKHSHJURAT QALANDAR BAKHSH
0 Bookmarks 44 Reads0 Likes

जहाँ कुछ दर्द का मज़कूर होगा

हमारा शेर भी मशहूर होगा

जहाँ में हुस्न पर दो दिन के ऐ गुल

कोई तुझ सा भी कम मग़रूर होगा

पड़ेंगे यूँ ही संग-ए-तफ़रक़ा गर

तो इक दिन शीशा-ए-दिल चूर होगा

मुझे कल ख़ाक-अफ़्शाँ देख बोला

यही उश्शाक़ का दस्तूर होगा

हुआ हूँ मर्ग के नज़दीक ग़म से

ख़ुदा जाने ये किस दिन दूर होगा

वही समझेगा मेरे ज़ख़्म-ए-दिल को

जिगर पर जिस के इक नासूर होगा

हमें पैमाना तब ये देगा साक़ी

कि जाम-ए-उम्र जब मामूर होगा

जो यूँ ग़म नीश-ज़न हर दम रहेगा

तो फिर दिल ख़ाना-ए-ज़ंबूर होगा

यही रोना है गर मंज़ूर 'जुरअत'

तो बीनाई से तू मअज़ूर होगा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts