नामा-बर भी वहाँ रसा न हुआ's image
1 min read

नामा-बर भी वहाँ रसा न हुआ

Josh MalsiyaniJosh Malsiyani
0 Bookmarks 61 Reads0 Likes

नामा-बर भी वहाँ रसा न हुआ

किसी सूरत मिरा भला न हुआ

दर्द की दाद कौन दे मुझ को

तू ही जब दर्द-आश्ना न हुआ

वही मतलूब हो वही तालिब

इक मुअम्मा हुआ ख़ुदा न हुआ

मुख़्तसर भी है और जामे भी

क्या हुआ का जवाब क्या न हुआ

हाँ कहो कुछ हमें भी हो मालूम

वो गिला क्या जो बरमला न हुआ

इश्क़ उस दर्द का नहीं क़ाइल

जो मुसीबत की इंतिहा न हुआ

तुम से तकमील-ए-जौर हो न सकी

इस अदा का भी हक़ अदा न हुआ

इतना पास-ए-वफ़ा तो है उस को

बेवफ़ाई से बे-वफ़ा न हुआ

दिल-कुशा थी निगाह-ए-नाज़ उस की

तीर क्यूँ उस का दिल-कुशा न हुआ

दिल कभी ख़ुश हुआ तो था लेकिन

इस का अब ज़िक्र क्या हुआ न हुआ

क़ाबिल-ए-शुक्र है वो सब्र ऐ 'जोश'

जो कभी दस्त-ए-इल्तिजा न हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts