दिल पे जो गुज़री कोई क्या जाने's image
1 min read

दिल पे जो गुज़री कोई क्या जाने

Josh MalsiyaniJosh Malsiyani
0 Bookmarks 38 Reads0 Likes

दिल पे जो गुज़री कोई क्या जाने

ये तो हम जानें या ख़ुदा जाने

ख़ाक झेलेगा वो मुसीबत-ए-इश्क़

जो लगा कर न फिर बुझा जाने

तू ही अपना मक़ाम जानता है

इक ज़ुलूम-ओ-जुहूल क्या जाने

क्या करे अर्ज़-ए-मुद्दआ वो बशर

इब्तिदा को जो इंतिहा जाने

बादा-नोशों का हश्र क्या होगा

मुझ बला-नोश की बला जाने

बात रिंदी की मुझ को आती है

पारसाई की पारसा जाने

तुझ को अपनी ख़बर नहीं ऐ 'जोश'

तो ख़ुदाई के राज़ क्या जाने

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts