दाग़ दिल चमका तो ग़म पैदा हुआ's image
1 min read

दाग़ दिल चमका तो ग़म पैदा हुआ

Josh MalsiyaniJosh Malsiyani
0 Bookmarks 58 Reads0 Likes

दाग़ दिल चमका तो ग़म पैदा हुआ

ये अंधेरा सुब्ह-दम पैदा हुआ

मैं हूँ वो गुम-गश्ता-ए-राह-ए-तलब

मेरी हस्ती से अदम पैदा हुआ

हो गई हर एक बेशी में कमी

जब ख़याल-ए-बेश-ओ-कम पैदा हुआ

उन के आने की ख़ुशी क्या चीज़ थी

इस ख़ुशी से और ग़म पैदा हुआ

मय-कदे में शैख़ भी आया अगर

गर्दन-ए-मीना में ख़म पैदा हुआ

हुस्न में तख़्लीक़ का जौहर भी है

उस के ''मैं'' कहने से ''हम'' पैदा हुआ

याद उन की यूँ रफ़ीक़-ए-राह थी

हर क़दम पर हम-क़दम पैदा हुआ

क्या कहें हम इस अदा-ए-ख़ास को

हर करम से इक सितम पैदा हुआ

मर्ग का कुछ भी न था ऐ 'जोश' ग़म

उन के वादे से ये ग़म पैदा हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts