बथुए की कच्ची पत्ती's image
1 min read

बथुए की कच्ची पत्ती

Jagdish GuptJagdish Gupt
0 Bookmarks 71 Reads0 Likes

पौधों में उभरा
सीताओं का रूप
पछुआ के झोंकों से
हिल उठती धूप

बैंगनी-सफ़ेद बूटियों की हिलकोर
पीले फूलों वाली छींट सराबोर

ओस से सनी
चिकनी मिट्टी की गंध
पाँवों की फिसलन
बन जाती निर्बन्ध

शब्द-भरी नन्हीं चिड़ियों की बौछार
लहराकर तिर जाती आँखों के पार

मेड़ के किनारे
पगडंडी के पास
अनचाहे उग आती
अजब-अजब घास

इक्का-दुक्का उस हरियाली के बीच
कुतरती गिलहरी, फिर-फिर दानें खींच

पकने में होड़ किए
गेहूँ की बाल
बथुए की पत्ती
मूंगे जैसी लाल ।

बथुए की कच्ची पत्ती हरी होती है,पर पकने पर वह एकदम लाल हो जाती है ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts