याद आती हैं हमें जान तुम्हारी बातें's image
2 min read

याद आती हैं हमें जान तुम्हारी बातें

IMAM BAKHSH NASIKHIMAM BAKHSH NASIKH
0 Bookmarks 67 Reads0 Likes

याद आती हैं हमें जान तुम्हारी बातें

हाए वो प्यार की आवाज़ वो प्यारी बातें

पहरों चुप रहते हैं हम और अगर बोलते हैं

वही फिर फिर के उलटती हैं तुम्हारी बातें

ग़ैर हर दम मुझे बातें जो सुना जाते हैं

जानता हूँ ये मैं ऐ जान तुम्हारी बातें

याद आता है तिरा क्या के एवज़ का कहना

हाए फिर कब मैं सुनूँगा वो गँवारी बातें

है बुरी बात ये अग़्यार से बातें करनी

वर्ना ऐ जान तिरी अच्छी हैं सारी बातें

इस तरह बोल निकलते न सुने थे हम ने

करती है साफ़ सनम तेरी सितारी बातें

तू वो एजाज़-ए-बयाँ है कि मसीहा समझें

सुन लें ऐ जान किसी दिन जो जुआरी बातें

इस लिए अश्क बहाता हूँ दम-ए-फ़िक्र-ए-सुख़न

कि हमेशा रहें दुनिया में ये जारी बातें

तू वो गुल है कि अगर कान धरे गुलशन में

हो ज़बाँ मौज करे बाद-ए-बहारी बातें

कीजिए सेहर-बयानी से मुसख़्ख़र क्यूँ-कर

कभी सुनता नहीं 'नासिख़' वो हमारी बातें

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts