मुझ को फ़ुर्क़त की असीरी से रिहाई होती's image
2 min read

मुझ को फ़ुर्क़त की असीरी से रिहाई होती

IMAM BAKHSH NASIKHIMAM BAKHSH NASIKH
0 Bookmarks 73 Reads0 Likes

मुझ को फ़ुर्क़त की असीरी से रिहाई होती

काश ईसा के एवज़ मौत ही आई होती

आशिक़ी में जो मज़ा है तो यही फ़ुर्क़त है

लुत्फ़ क्या था जो अगर उस से जुदाई होती

गर न हो शम्अ' तो मा'दूम हैं परवाने भी

तू न होता तो सनम कब ये ख़ुदाई होती

ग़ैर से करते हो अबरू के इशारे हर दम

कभी तलवार तो मुझ पर भी लगाई होती

उस की हर दम की नसीहत से मैं तंग आया हूँ

काश नासेह से भी आँख उस ने लड़ाई होती

हूँ वो ग़म-दोस्त कि सब अपने ही दिल में भरता

ग़म-ए-आलम की अगर इस में समाई होती

ख़त के आग़ाज़ में तो मुझ से हुआ साफ़ तू कब

लुत्फ़ तब था कि सफ़ाई में सफ़ाई होती

अब्र-ए-रहमत से तो महरूम रही किश्त मिरी

कोई बिजली ही फ़लक तू ने गिराई होती

दश्त-ए-पुर-ख़ार में मेहंदी की हवस भी निकली

कब हमारी कफ़-ए-पा वर्ना हिनाई होती

धोई क्यूँ अश्क के तूफ़ान से लौह-ए-महफ़ूज़

सर-नविश्त अपनी ही 'नासिख़' ने मिटाई होती

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts