हर कदम पर नित नए साँचें में ढल जाते हैं लोग's image
1 min read

हर कदम पर नित नए साँचें में ढल जाते हैं लोग

Himayat Ali ShairHimayat Ali Shair
0 Bookmarks 55 Reads0 Likes

हर कदम पर नित नए साँचें में ढल जाते हैं लोग
देखते ही देखते कितने बदल जाते हैं लोग

किस लिए कीजिए किसी गुम-गश्ता जन्नत की तलाश
जब कि मिट्टी के खिलौनों से बहल जाते हैं लोग

कितने सादा दिल हैं अब भी सुन के आवाज़-ए-जरस
पेश ओ पस से बेख़बर घर से निकल जाते हैं लोग

अपने साए साए सर-नहुड़ाए आहिस्ता ख़िराम
जाने किस मंज़िल की जानिब आज कल जाते हैं लोग

‘शाइर’ उन की दोस्ती का अब भी दम भरते हैं आप
ठोकरें खा कर तो सुनते हैं सँभल जाते हैं लोग

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts