यूँ तो आशिक़ तिरा ज़माना हुआ's image
1 min read

यूँ तो आशिक़ तिरा ज़माना हुआ

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 30 Reads0 Likes

यूँ तो आशिक़ तिरा ज़माना हुआ

मुझ सा जाँ-बाज़ दूसरा न हुआ

ख़ुद-ब-ख़ुद बू-ए-यार फैल गई

कोई मिन्नत-ए-कश-ए-सबा न हुआ

मैं गिरफ़्तार-ए-उल्फ़त-ए-सय्याद

दाम से छुट के भी रिहा न हुआ

ख़बर उस बे-ख़बर की ला देती

तुझ से इतना भी ऐ सबा न हुआ

उन से अर्ज़-ए-करम तो क्या करते

हम से ख़ुद शिकवा-ए-जफ़ा न हुआ

हो के बे-ख़ुद कलाम-ए-हसरत से

आज 'ग़ालिब' ग़ज़ल सरा न हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts