उन को रुस्वा मुझे ख़राब न कर's image
1 min read

उन को रुस्वा मुझे ख़राब न कर

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 110 Reads0 Likes

उन को रुस्वा मुझे ख़राब न कर

ऐ दिल इतना भी इज़्तिराब न कर

आमद-ए-यार की उम्मीद न छोड़

देख ऐ आँख मैल-ए-ख़्वाब न कर

मिल ही रहती है मय-परस्त को मय

फ़िक्र-ए-नायाबी-ए-शराब न कर

नासेहा हम करेंगे शरह-ए-जुनूँ

दिल-ए-दीवाना से ख़िताब न कर

शौक़ यारों का बे-शुमार नहीं

सितम ऐ दोस्त बे-हिसाब न कर

दिल को मस्त-ए-ख़याल-ए-यार बना

लब को आलूदा-ए-शराब न कर

रख बहर-हाल शुग़्ल-ए-मय 'हसरत'

इस में परवा-ए-शेख़-ओ-शाब न कर

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts