कैसे छुपाऊँ राज़-ए-ग़म दीदा-ए-तर को क्या करूँ's image
1 min read

कैसे छुपाऊँ राज़-ए-ग़म दीदा-ए-तर को क्या करूँ

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

कैसे छुपाऊँ राज़-ए-ग़म दीदा-ए-तर को क्या करूँ

दिल की तपिश को क्या करूँ सोज़-ए-जिगर को क्या करूँ

शोरिश-ए-आशिक़ी कहाँ और मेरी सादगी कहाँ

हुस्न को तेरे क्या कहूँ अपनी नज़र को क्या करूँ

ग़म का न दिल में हो गुज़र वस्ल की शब हो यूँ बसर

सब ये क़ुबूल है मगर ख़ौफ़-ए-सहर को क्या करूँ

हाल मेरा था जब बतर तब न हुई तुम्हें ख़बर

ब'अद मेरे हुआ असर अब मैं असर को क्या करूँ

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts