अपना सा शौक़ औरों में लाएँ कहाँ से हम's image
2 min read

अपना सा शौक़ औरों में लाएँ कहाँ से हम

Hasrat MohaniHasrat Mohani
0 Bookmarks 144 Reads0 Likes

अपना सा शौक़ औरों में लाएँ कहाँ से हम

घबरा गए हैं बे-दिली-ए-हमरहाँ से हम

कुछ ऐसी दूर भी तो नहीं मंज़िल-ए-मुराद

लेकिन ये जब कि छूट चलें कारवाँ से हम

ऐ याद-ए-यार देख कि बा-वस्फ़-ए-रंज-ए-हिज्र

मसरूर हैं तिरी ख़लिश-ए-ना-तवाँ से हम

मालूम सब है पूछते हो फिर भी मुद्दआ

अब तुम से दिल की बात कहें क्या ज़बाँ से हम

ऐ ज़ोहद-ए-ख़ुश्क तेरी हिदायत के वास्ते

सौग़ात-ए-इश्क़ लाए हैं कू-ए-बुताँ से हम

बेताबियों से छुप न सका हाल-ए-आरज़ू

आख़िर बचे न उस निगह-ए-बद-गुमा से हम

पीराना-सर भी शौक़ की हिम्मत बुलंद है

ख़्वाहान-ए-काम-ए-जाँ हैं जो उस नौजवाँ से हम

मायूस भी तो करते नहीं तुम ज़-राह-ए-नाज़

तंग आ गए हैं कशमकश-ए-इम्तिहाँ से हम

ख़ल्वत बनेगी तेरे ग़म-ए-जाँ-नवाज़ की

लेंगे ये काम अपने दिल-ए-शादमाँ से हम

है इंतिहा-ए-यास भी इक इब्तिदा-ए-शौक़

फिर आ गए वहीं पे चले थे जहाँ से हम

'हसरत' फिर और जा के करें किस की बंदगी

अच्छा जो सर उठाएँ भी इस आस्ताँ से हम

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts