कौन देखे मेरी शाख़ों के समर टूटे हुए's image
1 min read

कौन देखे मेरी शाख़ों के समर टूटे हुए

Hasan AbidiHasan Abidi
0 Bookmarks 83 Reads0 Likes

कौन देखे मेरी शाख़ों के समर टूटे हुए
घर बाहर के रास्तों में हैं शजर टूटे हुए

लुट गया दिन का असासा और बाक़ी रह गए
शाम की दहलीज़ पर लाल ओ गोहर टूटे हुए

याद-ए-याराँ दिल में आई हुक बन कर रह गई
जैसे इक ज़ख़्मी परिंदा जिस के पर टूटे हुए

रात है और आती जाती साअतें आँखों में हैं
जैसे आईने बिसात-ए-ख़्वाब पर टूटे हुए

आबगीने पत्थरों पर सर-निगूँ होते गए
और हम बच कर निकल आए मगर टूटे हुए

मिल गए मिट्टी में क्या क्या मुंतज़िर आँखों के ख़्वाब
किस ने देखे हैं सितारे ख़ाक पर टूटे हुए

वो जो दिल की मुमलिकत थी बाबरी मस्जिद हुई
बस्तियाँ सुनसान घर वीरान दर टूटे हुए

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts