मौन शब्द's image
1 min read

मौन शब्द

Harivansh Rai BachchanHarivansh Rai Bachchan
0 Bookmarks 194 Reads0 Likes

मौन शब्द
एक दिन मैंने
मौन में शब्द को धँसाया था
और एक गहरी पीड़ा,
एक गहरे आनंद में,
सन्निपात-ग्रस्त सा,
विवश कुछ बोला था;
सुना, मेरा वह बोलना
दुनिया में काव्य कहलाया था।

आज शब्द में मौन को धँसाता हूँ,
अब न पीड़ा है न आनंद है
विस्मरण के सिन्धु में
डूबता-सा जाता हूँ,
देखूँ,
तह तक
पहुँचने तक,
यदि पहुँचता भी हूँ,
क्या पाता हूँ।

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts