उन की नज़र का लुत्फ़ नुमायाँ नहीं रहा's image
2 min read

उन की नज़र का लुत्फ़ नुमायाँ नहीं रहा

Gulzar DehlaviGulzar Dehlavi
0 Bookmarks 106 Reads0 Likes

उन की नज़र का लुत्फ़ नुमायाँ नहीं रहा

हम पर वो इल्तिफ़ात-ए-निगाराँ नहीं रहा

दिल-बस्तगी-ओ-ऐश का सामाँ नहीं रहा

ख़ुश-बाशी-ए-हयात का सामाँ नहीं रहा

ये भी नहीं कि गुल में लताफ़त नहीं रही

पर जन्नत-निगाह गुलिस्ताँ नहीं रहा

हर बे-हुनर से गर्म है बाज़ार‌‌‌‌-ए-सिफ़लगी

अहल-ए-हुनर के वास्ते मैदाँ नहीं रहा

अपनी ज़बान अपना तमद्दुन बदल गया

लुत्फ़-ए-कलाम अब वो सुख़न-दाँ नहीं रहा

क्यूँ अब तवाफ़-ए-कू-ए-मलामत से है गुरेज़

क्या वो जुनून-ए-कूचा-ए-जानाँ नहीं रहा

सीखा है हादसात-ए-ज़माना से खेलना

हम को हिरास-ए-मौजा-ए-तूफ़ाँ नहीं रहा

हर बैत जिस के फ़ैज़ से बैत-उल-ग़ज़ल बने

अब वो सुरूर-ए-चश्म-ए-ग़ज़ालाँ नहीं रहा

दीवानगी-ए-शौक़ के क़ुर्बान जाइए

अब इमतियाज़-ए-जेब-ओ-गरेबाँ नहीं रहा

पीर-ए-मुग़ाँ की बैअत-ए-कामिल के फ़ैज़ से

अब शैख़ नाम का भी मुसलमाँ नहीं रहा

उन की निगाह-ए-नाज़ का ये इल्तिफ़ात है

चारागरों का ज़ीस्त पर एहसाँ नहीं रहा

क्या हाल है तुम्हारा अज़ीज़ान-ए-लखनऊ

तहज़ीब-ए-अहल-ए-दिल्ली का पुरसाँ नहीं रहा

हर शय है इस जहान में लेकिन ख़ुदा-गवाह

'गुलज़ार' इस दयार में इंसाँ नहीं रहा

 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts