एक काफ़िर-अदा ने लूट लिया's image
1 min read

एक काफ़िर-अदा ने लूट लिया

Gulzar DehlaviGulzar Dehlavi
0 Bookmarks 80 Reads0 Likes

एक काफ़िर-अदा ने लूट लिया

उन की शर्म-ओ-हया ने लूट लिया

इक बुत-ए-बेवफ़ा ने लूट लिया

मुझ को तेरे ख़ुदा ने लूट लिया

आश्नाई बुतों से कर बैठे

आश्ना-ए-जफ़ा ने लूट लिया

हम ये समझे कि मरहम-ए-ग़म है

दर्द बन कर दवा ने लूट लिया

उन के मस्त-ए-ख़िराम ने मारा

उन की तर्ज़-ए-अदा ने लूट लिया

हुस्न-ए-यकता की रहज़नी तौबा

इक फ़रेब-ए-नवा ने लूट लिया

होश-ओ-ईमान-ओ-दीन क्या कहिए

शोख़ी-ए-नक़श-ए-पा ने लूट लिया

रहबरी थी कि रहज़नी तौबा

हम को फ़रमाँ-रवा ने लूट लिया

एक शोला-नज़र ने क़त्ल किया

एक रंगीं-क़बा ने लूट लिया

हम को ये भी ख़बर नहीं 'गुलज़ार'

कब बुत-ए-बेवफ़ा ने लूट लिया

हाए वो ज़ुल्फ़-ए-मुश्क-बू तौबा

हम को बाद-ए-सबा ने लूट लिया

उन को 'गुलज़ार' मैं ख़ुदा समझा

मुझ को मेरे ख़ुदा ने लूट लिया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts