फिरे, सब फिरे's image
1 min read

फिरे, सब फिरे

Gulab KhandelwalGulab Khandelwal
0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

फिरे, सब फिरे
लहरों के बीच हम अकेले ही तिरे

कोई द्वार से ही, कोई गाँव के सिवान से
कोई पनघट से, कोई खेत-खलिहान से
जानकर फिरे कोई फिरे अनजान-से
आप अपने ही से घिरे

लौट गए कोई सुभाषित उछालते
सावधान करते, सहेजते, सँभालते
कुछ फिरे तीर से नयन-नीर ढालते
रूप के रसिक जो निरे

नीचे महासिंधु, नभ ऊपर अपार है
कोई संग-साथ न तो प्रिय-परिवार है
झंझा की नाव, ज्वार की ही पतवार है
कभी उठ गए, कभी गिरे

फिरे, सब फिरे
लहरों के बीच हम अकेले ही तिरे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts